एटीएम का फुल फॉर्म क्या है एटीएम के बारे मैं पूरी जानकारी

0
Share

एटीएम (ATM) एक ऐसा शब्द है जिसकी फुल फॉर्म अक्सर एक्जाम मैं पूछ ली जाती है। तो सवाल ये है की क्या आप जानते है एटीएम की फुल फॉर्म क्या है। बहुत से लोग एटीएम की फुल फॉर्म Any time money बताते है जो की गलत है। अगर आप जानना चाहते है की एटीएम क्या है और किस प्रकार काम करता है । तो आज हम आपको सारी जानकारी देने जा रहे है ।

सबसे पहले ये जान लीजिये की हम उस मशीन की बात कर रहे है जो पैसे निकालने के काम मैं आती है। इस मशीन को अलग अलग देशो मैं अलग अलग नाम से जाना जाता है।  कुछ देशों मैं एटीएम मशीन को cash machine, मिनी बैंक भी बोला जाता है।

ATM की Full form क्या है

एटीएम (एटीएम) की फुल फॉर्म है Automated Teller Machine

अगर हम इसको पार्ट्स मैं अलग केरे तो A का मतलब है Automated, T का मतलब है Teller और M का मतलब है Machine।

ATM क्या है 

ATM एक electronic telecommunication device है जिसका उपयोग Financial operations मैं होता है। इस मशीन की द्वारा हम बिना बैंक मैं जाए पैसो का आदान प्रदान कर सकते है। एटीएम के  प्रयोग  से हम बहुत सारे काम कर सकते है जैसे की 

  • Account Balance का पता करना 
  • Accounts से पैसे निकालना
  • ATM Card का पिन बदलना
  • एटीएम (ATM) का प्रयोग विदेशी मुद्रा निकालने मैं भी किया जा सकता है। 

इसके अलावा भी बहुत से काम है जो की एटीएम की मदत से किए जा सकते  है। बैंक समय समय पर एटीएम के software मैं change  करते रहते है और नयी services add करते रहते है। 

एटीएम का प्रयोग करने के लिए हम ATM Card का use करते है जिसमे एक चिप लगी होते है जिसमे हमारे बैंक अकाउंट की जानकारी होती है। ATM इस जानकारी को रीड करता है और database मैं चेक करने के बाद हमसे ATM Pin मांगता है। जब हम ATM Pin डालते है तो ATM उस पिन को database मैं चेक करके verify करता है। एक बार ATM  पिन verify हो जाय उसके बाद हम एटीएम services को use कर सकते है।

एटीएम का फुल फॉर्म क्या है एटीएम के बारे मैं पूरी जानकारी
Automated Teller Machine

ATM के पार्ट्स ( HARDWARE OF ATM )

 CPU ( central processing unit) 

 CPU को किसी भी electronic device का दिमाग भी कहा जाता है यह AMT मैं सारे डाटा को input medium से लेकर उसको प्रोसैस करता है और नेटवर्क के माध्यम से उसको मैं  computer मैं भेज देता है।

Magnetic or chip card reader

Chip card reader  का प्रयोग  ATM Card पर से user की डिटेल्स को scan करके पता करना होता है। ATM मैं Chip Card reader का प्रयोग एक input डिवाइस के रूप मैं होता है।

PIN pad

Pin pad का प्रयोग भी एटीएम मैं एक  Input Device के रूप मैं होता है जैसा की हम आपको बता चुके है जब हम एटीएम कार्ड डालते है तो हम से एटीएम पिन ( personal identification number )  मांगा जाता है। Pin pad का प्रयोग पिन को एटीएम मैं feed करने के लिए होता है।

Secure Cryptoprocessor

यह एक प्रकार का microprosessor होता है जो की एटीएम मैं प्रयोग होता इसका मुख्य काम किसी भी एटीएम operations मैं होने वाली चोरी को रोकना होता है। यह एटीएम मैं डाटा की Security के लिए प्रयोग किया जाता है।

Display

user को अलग अलग प्रकार की Information को show करने के लिए display यूनिट का प्रयोग किया जाता है।

Function key or a touchscreen

Function key या touchscreen का उपयोग एक input device के रूप मैं होता है। user इनकॉ प्रयोग करके एटीएम मैं Information feed कर सकता है।

Record Printer

Record Printer का प्रयोग एटीएम transactions को प्रिंट करने के लिए किया जाता है।

आज के युग के नए एटीएम मैं  एडवांस Sensors को लगाया जाता है जो की किसी भी आपातकालीन समय मैं एटीएम को LOCK करके इसकी सूचना संबंधित कार्यालय मैं दे सकते है।

Software

आज के समय के एटीएम मुख्य रूप से Windows Operating System का उपयोग करते है। Linux भी अब एटीएम के लिए Operting system पर कम कर रहा है। Banrisul इसका एक example है।

कम्प्युटर की History

Hackers कितने प्रकार के होते है

Security (सुरक्षा)

एटीएम Security एक प्रमुख विषय है। इसके लिए अलग अलग प्रकार के modules का उपयोग किया जाता है। ATM  की Security  को हम अलग अलग भागो मैं बाट सकते है।

Physical

एटीएम से पैसों का लेन देन होता है तो यह मशीन हमेशा चोरो के निशाने पर होते है। कई बार चोर मशीन को तोड़ कर चोरी करने का प्रयास करते है परंतु एटीएम मैं Security Systam लगा होता है जब भी लगता है की एटीएम को कोई हानी पाहुचना चाहता है तो यह सिस्टम  Active हो जाता है और एक्शन मैं आ जाता है। 

यह सिस्टम जरूरत पड़ने पर नोट को गीला कर सकता है या फिर उन पर कलर कर सकता है। ऐसा करने पर नोट Use करने के लायक नहीं रहते है।

Transactional secrecy and integrity

एटीएम मैं Transactional Integrity के लिए cryptoprocessor लगा होता है। जिसका काम एटीएम मैं use होने वाली हर Information का Encryption करना होता है। एटीएम मैं जो भी Information pass की जाती है वो एक encrypted फॉर्म मैं होती है।

Customer identity integrity

यह भी हो सकता है की आप एटीएम use कर रहे हो और चोर Card Reader या Key Pads की मदत से आपकी accounts information और ATM Pin को चुरा ले। इस प्रकार की घटना से बचने के लिए बैंक अब Face recognition और Finger Scan का प्रयोग कर रहे है।

Jackpotting

Jackpotting मैं चोर एटीएम मैं ड्रिल करने के बाद दूसरे computer की मदत से पैसो को चोरी कर लाते है। इससे बचने के लिए कंपनी अब high level Encryption का प्रयोग करती है और केवल एटीएम का सिस्टम ही इन्फॉर्मेशन को read या process कर सकता है।

अभी हमने आपको एटीएम के बारे मैं पूरी जानकारी देने का प्रयास किया अगर आपको पसंद आया तो Share करे या  comment कर के अपनी राय हमे बताए।

Related Posts
Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Contacts

C 130 B JVTS Garden
Chattarpur New Delhi
info@digitalabhiyanta.com
+91-9899769854

Socials

© 2018 Thype . All rights reserved.